कनक पांडेय और पूर्वांचल प्रवासी मिलन संस्था के द्वारा यूएई से भारतीय मजदूरों की सकुशल देशवापसी

एक्ट्रेस कनक पाण्डेय और सैकत कुमार के प्रयासों से पूर्वांचल वासियों की घर वापसी हुई मुमकिन, स्वदेश वापसी अभियान के तहत पूर्वांचल के भारतीयों के लिए 14 वीं स्पेशल फ्लाईट

मुंबई| पूरी दुनिया में लोग कोरोना की मार से बेहाल हैं, ऐसे में मजदूरों का हाल सबसे ज़्यादा खराब हुआ है। विदेश में काम करने वाले पूर्वांचलवासी मजदूर भी परेशानियों मेे घिरे हुए हैं। दुबई में लाखों पूर्वांचली मजदूरों की नौकरियां कोरोना महामारी की वजह से चली गई और फिर वे सभी अपने वतन वापसी आने के लिए परेशान हो गए। ऐसे हालात में दुबई की संस्था “पूर्वांचल प्रवासी मिलन” और भोजपुरी अभिनेत्री कनक पांडेय ऐसे मजदूरों के लिए एक मसीहा के रूप में सामने आईं। कनक पांडेय से अपने हिन्दुस्तानियों का दुःख दर्द देखा नहीं गया और वह मजबूर मजदूरों की देश वापसी की मुहिम से जुड़ गईं। लॉक डॉउन के दौरान कनक पांडेय ने दुबई में बेशुमार मजदूरों को प्रतिदिन खाना खिलाने का नेक काम किया। वह पूरी शिद्दत के साथ इस नेक काम मेे अब भी जुटी हुई हैं। मजदूरों को खाना देते वक़्त उनका दर्द उनसे सहा नहीं जाता था, लोग जब अपनी दुःख भरी कहानी बयां करते थे, जिसे सुनकर कनक पांडेय का दिल दुःखी हो जाता था। वह सब देख सुनकर कनक पांडेय ने भारतीय मजदूरों को उनके घर भेजने का निर्णय लिया। उन्होंने भारतीय मजदूरों की घर वापसी के लिए सराहनीय कदम उठाया। इस नेक काम में पूर्वांचल प्रवासी मिलन (पी पी एम) के चेयर मैन सैकत कुमार ने कनक पांडेय को पूरा सपोर्ट किया। उनके साथ मिलकर कनक पांडेय इस मिशन को कामयाब बनाने मेे दिल, जान से लग गईं और सैकड़ों मजदूरों और उनके हजारों घरवालों की दुआएं पाईं।
उललेखनीय है कि कनक पांडेय ने सैकत कुमार के सहयोग से स्वदेश वापसी अभियान के तहत पूर्वांचल क्षेत्र के सैकड़ों भारतीयों को सयुंक्त अरब अमीरात से वापस लखनऊ और जयपुर फ्लाइट से भेजा था। और अब यूएई से उनकी 14 वीं स्पेशल फ्लाईट उड़ान भरी है। लोगों ने पूर्वांचल प्रवासी मिलन के अध्यक्ष सैकत कुमार जी को बहुत-बहुत धन्यवाद दिया है, जिन्होंने हमेशा ऐसे सामाजिक और सामुदायिक विकास कार्य करने के लिए लोगों को प्रेरित किया है। यह इस संस्था की 14 वीं उड़ान थी और कोलकाता के लिए दूसरी फ्लाईट थी। सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज कोलकाता, संयुक्त अरब अमीरात के पूर्व छात्रों ने कोलकाता की दोनों उड़ानों के लिए इस नेक काम मेे पूरा साथ दिया है। यहां तक ​​कि मारवाड़ी समाज ने भी इस बार हाथ मिलाया है।


कनक पांडेय कहती हैं कि हम खुश हैं कि केवल हमारी उड़ान को सभी स्तरों पर मंजूरी मिली है। पश्चिम बंगाल की सम्मानित सीएम और उनकी सरकार को इसके लिए विशेष धन्यवाद। साथ ही श्री स्वरूप, आईएएस ज्वाइंट सचिव, वेस्ट बंगाल, सीजीएस कार्यालय और नीरज जी, दुबई रेव फादर डोमिनिक, सेंट ज़ेवियर्स कॉलेज और विश्वविद्यालय, कोलकाता, कल्याण दा, सैकत जी (जो एक ज़ेवेरियन भी हैं), सप्तर्षि दा और कोलकाता एलुमनी एसोसिएशन का भी बेहद शुक्रिया कि इन सब की वजह से यह एक सफल आयोजन बन पाया। हमेशा की तरह गुरमीत, आशिम भाई और मोहंती का बेहतरीन काम रहा।
एक्ट्रेस और सोशल वर्कर कनक पांडेय ने आगे बताया कि पूर्वांचल प्रवासी मिलन की ओर से हमारी अन्य सामाजिक गतिविधियाँ जल्द ही आ रही हैं। हम आपको इस सिलसिले में अवगत कराते रहेंगे, हमेशा पूर्वांचल प्रवासी मिलन के विजन को आगे ले जाने के लिए आप सब के समर्थन और सहयोग की हम सराहना करते हैं। सुरक्षित रहें, स्वस्थ रहें और हम दुआ करते हैं कि आपके दिन अच्छे से गुजरें।
कनक पांडेय इस मिशन से बेहद इमोशनल ढंग से जुड़ी हैं, वह कहती हैं “सैकत कुमार जी को जितना भी धन्यवाद दिया जाय, वह कम है। उन्होंने मजबूर मजदूरों को सुरक्षित घर भेजा, उनके इस योगदान के बिना इतना बड़ा काम नामुमकिन था। सैकत कुमार ने पूर्वांचल प्रवासी मिलन के चेयरमैन के रूप में अपनी ज़िम्मेदारियों को बखूबी निभाया है। पूर्वांचल प्रवासी मिलन संस्था ऐसे तमाम लोगो की हेल्प भविष्य में भी करती रहेगी तथा कोई भी किसी प्रकार की मदद के लिए हमसे कॉन्टैक्ट कर सकता है। पूर्वांचल प्रवासी मिलन की स्थापना का मकसद बिहार, झारखण्ड और उत्तेर प्रदेश के लोगों के बीच एक अच्छे सम्बन्ध को स्थापित करना है। विशेष कर वो लोग जो इन प्रदेशो से आकर यूएई में काम कर रहे है।”
वास्तव में एक कलाकार दिल से इंसानियत से प्रेम करने वाला होता है। कनक पांडेय के दिल में भी यही जज़्बा मौजूद है और हम उनके इस जज्बे की कद्र करते हैं, कि उन्होंने परेशान और मजबूर मजदूरों के दुःख दर्द को ना केवल समझा, महसूस किया बल्कि उन्हें उनके परिवार वालों से मिलवा कर एक ऐतिहासिक काम कर दिया। मजदूरों के साथ साथ उनके घर वालो का हाथ भी दुआओं के लिए इस संस्था और इससे जुड़े हर एक सदस्य के लिए उठा रहेगा।

Show More

Related Articles

Back to top button