गृह जनपद में देव सिंह से मिलने दूर दूर से आ रहे हैं लोग

देव सिंह से मिलने की लोगों में मची होड़

मुंबई| सरल स्वभाव, मृदु भाषी, मिलनसार, आकर्षक व्यक्तित्व के धनी पॉपुलर फिल्म स्टार देव सिंह आजकल करोड़ो दिलों पर राज कर रहे हैं। भोजपुरी फिल्मों में खलनायक के किरदार दर्शकों पर अमिट छाप छोड़ चुके हैं। उन्होंने कड़े संघर्ष के बल पर भोजपुरी फिल्म इंडस्ट्री में मुकम्मल स्थान हासिल कर मिसाल कायम की है। वे बहुत से युवाओं आदर्श बन गये हैं। भोजपुरी फ़िल्म इंडस्ट्री के लाडले देव सिंह जब रुपहले परदे एंट्री करते हैं तो दर्शक दीर्घा के साथ साथ युवा जोश भी खुले दिल से उनका स्वागत करते हैं। उनके अभिनय का जौहर दर्शकों के सिर पर जादू सा छा जाता है। इतना ही नहीं जब वे फिल्मों की शूटिंग करते हैं तो लोग उनकी एक झलक पाने के लिए लालायित रहते हैं। अब जब कई महीनों से फिल्मों की शूटिंग बन्द है तो मुंबई से अपने लगभग सभी कार्य निपटाकर देव सिंह अपने गृह जनपद बलिया, उत्तर प्रदेश कुछ दिन के लिए आये हुए हैं। जैसे जैसे उनके आने की खबर दूर दराज गाँवों तक पहुँच रही हैं, वैसे वैसे उनसे मिलने व उन्हें एक झलक देखने के लिए लोग उत्साह पूर्वक आने लगे हैं। जाने अनजाने लोगों व प्रशंसकों का भरपूर प्यार पा कर वे काफी गदगद हैं और सभी का तहेदिल से आभार व्यक्त किया है। साथ ही सभी को धन्यवाद भी दिया है।


सवाल के जवाब में देव सिंह ने बताया कि यह उनके प्रति लोगों का प्यार है जो इतने दूर से लोग आ रहे हैं। सुबह से शाम तक लोग मिलने आते हैं लेकिन देव किसी को निराश नहीं करते हैं। पूरे सावधानी से सबको समय देते हैं। देव ने यह भी बताया कि काफी लोग आते हैं और कहते हैं कि उन्हें उनकी तरह बनना है। यह सुनकर हर्ष से उनकी आँख भर आती है और मैं कहते हैं कि “मेरी तरह नहीं खुद की तरह बनो।” हरफनमौला अभिनेता देव सिंह की शालीनता और मृदु व्यवहार लोगों को बहुत भाता है। दूसरे दिन भी यही आलम रहता है। लोगों का प्यार और सम्मान पाकर देव काफी इमोशनल भी दिखे। उनके गाँव में मानों जैसे कि रोज त्यौहार व जश्न मनाया जा रहा हो। दूर दराज से आ रहे लोगों में देव के प्रति गजब की दीवानगी देखने को मिलती है। देव सिंह ईश्वर को धन्यवाद देते हुए कहते हैं कि ऐसे ही उन पर हमेशा दर्शकों व प्रशंसकों का प्यार आशीर्वाद बना रहे। वे एक से बढ़कर एक अच्छी फिल्म करते रहें और सभी का मनोरंजन करते रहें। 

Show More

Related Articles

Back to top button