संस्था की महिला टीम द्वारा मास्क बनाकर मनरेगा मजदूर, स्वच्छताकर्मियों, पोषण एवं स्वास्थ्य कार्यकर्तीयों को निःशुल्क वितरण किया गया..

वाराणसी| देश की प्रथम महिला श्रीमती सविता कोविंद जी कि, मास्क सिलाई करते हुए प्रकाशित तस्वीर और समाचार से प्रेरित होकर जनमित्र न्यास चेरिटेबल संस्था की मैनेजिंग ट्रस्टी श्रुति नागवंशी ने संस्था के द्वारा कोविड19 के कारण लाकडाउन में वंचितों को खाद्यान, दवा वितरण जैसे राहतकार्य के साथ-साथ मास्क तैयार करने की योजना संस्था के साथियों के साथ साझा किया, कहने की देर थी कि, महिला साथी जो सिलाई जानती थीं उन्होंने तुरंत मास्क बनाने का काम हाथों हाथ ले लिया | यह टीम अब तक एक हजार मास्क बनाकर आशा कार्यकर्ती, एनम, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती एवं सहायिकाओं, पुलिसकर्मीयों के साथ ही सैकड़ों मनरेगा मजदूरों, क्वारंटीन सेन्टर में नियुक्त शिक्षकों एवं स्वच्छता कर्मीयों को दिया गया है | स्वास्थ्य के संक्रमण समस्या को देखते हुए संस्था के निर्धारित राहतकार्य के साथ मास्क सिलाई का काम भी साथ-साथ चल रहा है |

सार्वजनिक स्थानों पर मास्क पहनने का शासन द्वारा निर्देश आया तब बाजार में मास्क सरलता से उपलब्ध नही थे, जिसके कारण प्रधानमंत्री द्वारा मास्क के अभाव में गमछा के प्रयोग का सुझाव दिया गया | बाजार के मास्क व्यवसायिक दृष्टि से बनाए गए हैं जो केवल दिल को तसल्ली देने भर को ही हैं | सूती कपड़े से तैयार किया गया यह मास्क यू ट्यूब पोस्ट से सीखकर बनाया गया है जो मास्क के सुरक्षा मानक के अनुसार है और पूर्णतया: सुरक्षित होने के साथ सुविधाजनक भी है |

कोविड19 महामारी के शुरूआती समय में बाजार में मास्क की उपलब्धता नही थी, मास्क की किल्लत के कारण आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, एनम जो स्वास्थ्य कार्यकर्ता हैं उन्हें भी विभाग के तरफ से मास्क उपलब्ध नही कराया गया था | ऐसे में पहले चरण में जनमित्र न्यास के द्वारा पोषण एवं स्वास्थ्य कर्मियों ( आशा, आंगनबाड़ी कार्यकर्ती, सहायिका एवं एनम ) को मास्क दिया गया | जिन्हें पाकर वे बहुत ही खुश हुई और अब वे वही मास्क पहनकर अपने स्वास्थ्य देखभाल कार्य को अंजाम दे रहीं हैं जबकि इसके पहले वे रुमाल का प्रयोग कर रहीं थीं | दूसरे चरण में क्वारंटीन सेन्टर मिर्जामुराद में नियुक्त शिक्षकों एवं स्वच्छता कर्मियों को मास्क दिया गया | साथ ही जो भी मास्क की मांग करते हैं उन सभी को संस्था द्वारा मास्क उपलब्ध कराया जा रहा है |

इस काम में न सिर्फ संस्था की महिला कार्यकर्ता हेमलता, छाया, संध्या ने सैकड़ों मास्क सिला व महिलाओं युवतियो के पुरे चहरे एंव सिर को ढकने के लिए फैसनेबल व आकर्षण मास्क भी तैयार किया वंही टीम के पुरुष साथी विनोद जो सिलाई काम जानते थे उन्होंने भी कई दर्जन मास्क बना डाला | युवाओं को अपने काम से समय निकालकर मास्क बनाते देखकर संस्था की कार्यक्रम निदेशक शबाना खान की माताजी निकहत खान जिनकी उम्र 60 वर्ष है उन्होंने कई दर्जन मास्क बनाकर संस्था के जरिए मनरेगा मजदूरों को दिया | मास्क के कपड़े के खरीद के लिए छोटी सी धनराशि की सहायता प्रसिद्ध फोटोग्राफर रवि मिश्रा ने किया |

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button